हमारी शिक्षा

हमारी शिक्षा
हमारी शिक्षा क्या है
जिसकी जितनी बड़ी शिक्षा है
उसे उतनी ही बड़ी गाड़ी चाहिए
नए से नए मोबाइल फ़ोन चाहिए, लैपटॉप चाहिए
बड़े से बड़ा घर चाहिए, बिल्कुल महल की तरह

और अगर मैं पॉलिटिक्स में आ गया हूँ
तो मेरे आगे पीछे भी गाड़ियां होनी चाहिएं
हवाई जहाज़ होने चाहिएं
हेलीकॉप्टर होने चाहिएं
हवाई दौरे जो करने हैं
बड़े बड़े भाषण देने हैं
बड़ी बड़ी रैली करनी हैं
दिखाना है कि मैं कुछ कर रहा हूँ
भले ही मैं कुछ नहीं कर रहा हूँ
और अब कुछ कर भी नहीं पाऊँगा

क्योंकि सब गलत ही तो कर रहा हूँ
जब तक ये सारी ऊट पटांग बातें नहीं छोड़ूंगा
कुछ कर भी नहीं पाऊँगा
जो जितना बड़ा आदमी बन जाता है
वो अपने को उतना ही समझदार मानता है
भले ही किसी के सुख दुःख में उसे पीड़ा ही दी हो
बैंक में लाखों पड़े हों
मन में सुख शान्ति ना हो तो क्या फायदा

Leave a Reply